• किसानों की नई रणनीति, अब करेंगे Parliament का घेराव:

    Himadri Joshi

    Jul-21-2021 07:29:45 PM Delhi

    कृषि कानून के विरोध में बीते साल 26 नवंबर से राजधानी दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डरों पर किसान संगठन प्रदर्शन कर रहे है। लंबे समय से चल रहे इस विरोध प्रदर्शन के रुकने के कोई आसार अब भी नजर नहीं आ रहे है। जहां एक तरफ केंद्र इस प्रयास में है कि कैसे भी किसान संगठनो का यह प्रदर्शन रोका जाए। सरकार और अन्नदाता के बीच मचे इस तूफान को शांत किया जाए तो वहीं किसान संगठन यह साफ कर चुके है कि वो किसी मध्यस्तथा के रास्ते को नहीं अपनाएंगे। सरकार अगर इन कानूनों को वापस लेती है तब ही आंदोलन को रोका जा सकता है। यह बात किसान संगठनों ने सरकार के सामने साफ कर दी है। किसान संगठनों का कहना है कि किसान लंबे समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे है लेकिन सरकार उनकी मांगो को नजरअंदाज कर रही है। सरकार की नजर में आने और अपनी मांगो को पूरा करवाने के लिए किसान संगठनो ने अब एक नया रास्ता खोज निकाला है। किसानों ने अब ऐलान किया है कि वे 22 जुलाई यानी आज से हर दिन जंतर-मंतर पर 'किसान संसद' का आयोजन करेंगे। संगठनो का फैसला है कि गुरुवार से हर रोज 200 किसान जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे। जानकारी देते हुए किसान नेताओं ने बताया कि 22 जुलाई से हर रोज 200 किसान प्रदर्शनकारी जंतर-मंतर पहुंचेगे। यह प्रक्रिया संसद के मानसून सत्र खत्म होने तक जारी रहेगी। हम हर दिन एक स्पीकर और डेप्युटी स्पीकर चुनेंगे। पहले दो दिनों में एपीएमसी ऐक्ट पर चर्चा होगी। बाद में अन्य बिलों पर भी दो-दो दिन चर्चा के लिए दिए जाएंगे।' किसानों ने कहा कि वे जंतर-मंतर पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन करेंगे। जंतर-मंतर पर हर दिन सुबह 10 से शाम 5 बजे तक प्रदर्शन चलेगा। आपको बता दें कि संसद का मॉनसून सत्र 13 अगस्त तक चलेगा ।



  • z