• Rajasthan CM Ashok Gehlot ने की Amit Shah के इस्तीफे की मांग, जानिए पूरा मामला:

    Himadri joshi

    Jul-20-2021 01:45:24 PM India

    पेगासस जासूसी मामले में एक बार फिर विपक्ष ने केंद्र सरकार को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है।  सॉफ्टवेयर के जरिए फोन टैपिंग की रिपोर्ट आने के बाद दिल्ली से लेकर राजस्थान तक सियासत गरमाई हुई है। राहुल गांधी की जासूसी करवाने को लेकर कांग्रेस सरकार ने गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने टैपिंग के मामले में क्रेंद पर लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। वहीं, राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी इस मामले में बयान जारी कर अपनी राय रखी है।
     

    सीएम ने इस पूरे मामले में सुप्रीम कोर्ट से संज्ञान लेकर तत्काल जांच कराने की मांग की है। लिखित बयान जारी करने के साथ ही गहलोत ने ट्वीट कर भाजपा की सरकार पर निशाना साधा है। अपने बयान में सीएम ने कहा कि, पेगासस जासूसी मामले में माननीय सुप्रीम कोर्ट को खुद संज्ञान लेकर अविलंब जांच के आदेश देने चाहिए। यह सुप्रीम कोर्ट द्वारा न्यायिक जांच के लिए उपयुक्त केस है। इससे सच्चाई सामने आ जाएगी। जिस तरह से पेगासस सॉफ्टवेयर से मोबाइल हैकिंग और जासूसी की खबरें आ रही हैं।

    यह बहुत चिंताजनक और शॉकिंग है। अब जासूसी किए गए लोगों की लिस्ट में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जी का भी नाम आ गया है। अभी पता नहीं यह लिस्ट कहां जाकर रुकेगी। गहलोत ने आगे कहा कि 2019 में दिग्विजय सिंह ने जब राज्यसभा में यह मुद्दा उठाया था, तब सरकार में ईमानदारी होती तो इसे गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच कराती। देशभर में पिछले कुछ सालों से लगातार यह चर्चाओं में है कि लोगों को सर्विलांस पर रखकर उनके फोन टेप कराकर जासूसी की जा रही है। जैसा बताया गया है कि पेगासस सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी के अनुसार यह सॉफ्टवेयर सिर्फ सरकारों को ही बेचा जाता है।

    यह एक अत्यंत गंभीर विषय है, जिसकी सच्चाई जनता के सामने आनी चाहिए। वही, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने गहलोत के ट्वीट पर जवाबी ट्वीट करते हुए कहा कि इसकी शुरुआत राजस्थान से करनी चाहिए, चैरिटी बिगिन्स फ्रॉम होम। अपने इस ट्वीट से पूनिया ने पिछले साल सीएम पर लगे टैपिंग के आरोपों पर तंज कसा है। आपको बता दें कि, साल 2020 में सचिन पायलट खेमें ने सरकार के साथ बागी रुख अपनाया था, जिसके बाद सीएम पर फोन टैपिंग के आरोप लगाए गए थे।

    पेगासस जासूसी मामले में कांग्रेस ने भाजपा से 6 मुख्य सवाल किए है। कांग्रेस के सवाल है कि, क्या इस मामले में प्रधानमंत्री की भूमिका की जांच नहीं होनी चाहिए? हिंदुस्तान के मुख्य चुनाव आयुक्त राहुल गांधी समेत विपक्ष के नेता, कैबिनेट मंत्रियों, पत्रकारों, एक्टिविस्ट की जासूसी करवाना अगर राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ और देशद्रोह नहीं तो क्या है? कांग्रेस ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मोदी-शाह के जासूसी करवाने पर भी सवाल खड़े किए। इसके साथ ही कांग्रेस ने पूछा कि, भारत सरकार ने इजरायली सॉफ्टवेयर कब खरीदा, इसमें कितना खर्चा हुआ और इसकी अनुमति पीएम मोदी या अमित शाह ने दी? भाजपा की चुप्पी पर सवाल खड़े करते हुए कांग्रेस ने कहा कि, 2019 से 2021 के बीच मोदी और शाह को जानकारी थी तो वह चुप क्यों रहे?  इसके साथ ही कांग्रेस ने एक सवाल यह भी किया कि देश में आंतरिक सुरक्षा के जिम्मेवार अमित शाह हैं तो क्या अमित शाह को बर्खास्त नहीं किया जाना चाहिए?



  • z