Download App

.
  • फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार से नवाजी जाएगीं वडोदरा की नर्स भानुमति

    Sep-13-2021 01:00:12 PM Gujarat

    गुजरात में वडोदरा शहर के सर सायाजीराव जनरल अस्पताल में काम करने वाली नर्स भानुमति घीवला को फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा यह पुरस्कार उन्हें कोरोना काल में सुचारु रूप से अपनी सेवा देने और 2019 में बाढ़ के समय भी लगातार काम करने के लिए दिया जा रहा है। 

    Prity Ranoliya अधिक पढ़ें
  • जयपुर की महिलाओं ने निर्भया स्कवाड की टीम को बांधा रक्षासूत्र, सुनीता मीणा ने हर बहन की लाज बचाने का किया वादा

    Aug-21-2021 07:04:17 PM Rajasthan

    22 अगस्त को देशभर में रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाएगा। इस दिन सभी बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षासूत्र बांधती है और भाई बहन की रक्षा का वादा करता है। इसी कड़ी में महिलाओं की रक्षा के लिए हमेशा तत्पर रहने वाली निर्भया स्कावड की टीम को जयपुर की महिलाओं ने राखी बांधी।

    Ashwani Sirohi अधिक पढ़ें
  • पुरानी मान्यताओं को सहकर भी आगे बढ़ रही देश की महिलाएं, खेल जगत में लहरा रही हैं नए परचम

    Aug-20-2021 04:29:36 PM New Delhi

    टोक्यो ओलंपिक्स में सभी खिलाडियों के शानदार प्रदर्शन के बाद एक सवाल मेरे मन में यह भी आता है की क्या सच में हम सब भारतीय महिलाओं को खेल के क्षेंत्र में उतना ही सपोर्ट करते हैं जितना की एक पुरुष खिलाडी को मिलता है ?

    Anjalika Panwar अधिक पढ़ें
  • आखिर क्या है आराधिता का मिरेकल प्रोजेक्ट 14 वर्ष की आराधिता ने शुरू किया बिजनेस कायम की मिसाल

    Aug-17-2021 11:34:41 AM India

    ये कहानी है एक 14 वर्ष की लड़की आराधिता गोयंका की। आराधिता गोयंका एक ऐसी लड़की जिसने अपनी उम्र को नजरअंदाज कर बड़ा काम कर दिखाया। दरअसल आराधिता गोयंका ग्लूटेन और शुगर फ्री स्वीट्स जैसे चॉकलेट मूस , ग्रेनोला जार ,और कुकीज़ बना रही है। इस काम को उन्होंने मिरेकल प्रोजेक्ट का नाम दिया है जिसके अंतर्गत वे महामारी में बेसहारा हुए बच्चों ,महिलाओं और कैंसर पेशेंट्स की मदद कर रही है।

    Nikita Prajapati अधिक पढ़ें
  • एक सफाई कर्मचारी बनी RAS RAS 2018 महिला सशक्तिकरण की मिसाल ASHA KANDARA

    Aug-17-2021 11:34:41 AM Rajasthan

    ASHA KANDARA जिनका चयन RAS-2018 में हुआ है। आशा जोधपुर की सड़कों पर झाड़ू लगाने वाली निगम कर्मचारी है। आईये आपको इन महिला की कहानी बता ते है जो सिर्फ RAS तैयारी करने वालो को ही नहीं बल्कि जो कोई ज़िन्दगी में कुछ हासिल करना चाहता है उसमे मदद करेगा। आठ साल पहले पति से अनबन के बाद दो बच्चों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी निभाते हुए आशा ने पहले ग्रेजुएशन की। परीक्षा के 12 दिन बाद ही उसकी नियुक्ति सफाई कर्मचारी के पद हुई थी।

    Harshda Joshi अधिक पढ़ें